Showing posts with label KNOWLEDGE TIPS. Show all posts
Showing posts with label KNOWLEDGE TIPS. Show all posts

Monday, December 10, 2018

Most subscribed youtube channels | Most viewed youtube channels | Top youtube channels

Hello Friends, Kaise hai aap sab main umeed karti hun ki aap sab achhe honge. Friends bahoot baar hmare mind me question aata hai ki Most subscribed youtube channels konse hai ya fir Top youtube channels. Aaj hum jaanege most viewed youtube chnnels. Ye channel bahoot achha kar rhe hai jis wajah se ye har din acchhe subscriber or view milte jaa rhe hai.

Most-subscribed-youtube-channels-Most-viewed-youtube-channels-Top-youtube-channels


Friends waise to internet par channel bhar bhar ke pade hai lakin kuch channel aise hai jo khud k liye bhi achha kar rhe hai or hum logo k liye bhi or aise channel ko aapke liye jaanna bhi bahoot jaruri hai. Kyoki ye channel aapke knowledge level ko kaafi badha sakte hai. Mera manna hai ki agar aap in channels ko nhi dekh rhe ya fir abhi tak pta nhi hai to aapne kaafi saari knowledge ko miss kar diya. Isliye aaj main aapko kuch aise channel btane jaa rhi hun jo ki Most subscribed youtube channels hai or har kisi k liye faydemand hai. Post ko last tak jarur padhe or jaankari achhi lge to apne friends or relatives k saath share karna bilkul na bhulen. Aap beshak ek student hai, employe hai, yaa fir ek business person hai aapko har field me ye channel bahoot help karenge. To chaliye ab der na karte huey jaan lete hai ki Most viewed youtube channels konse hai jinse aapko itni help milne wali hai.

1. Dr. Vivek Bindra (Motivational and Business Coaching)
Dr Vivek Bindra ji bahoot he achhe Motivational or business coach hai. Youtube par inke channel ko har koi jaanta hai. Inke kaafi achhe worldwide subscriber bhi hai or inki har video par views bhi kaafi achhe hote hai. Agar aap ik business person hai ya fir ik entrepreneur hai to apko inki video jarur dekhni chaiye. Inka channel Dr. Vivek Bindra ke name se he hai or inki jyadtar video hindi me he hoti hai. 

2. Sandeep Maheswari (Motivational Channel)
Sandeep Maheswari ji ko kon nhi janta, ye kisi prichay ke mohtaaz to nhi hai. Lakin fir bhi me thoda sa introduction de deti hun. Ye kaafi achhe motivational person hai. Inke bhi fan following or channel subscriber kaafi achhe hai or har vedio bahoot achhi hoti hai. Motivational thinking ke master hai Sandeep Maheswari ji. So inka channel bhi subscribe karna na bhulen.  

Most-subscribed-youtube-channels-Most-viewed-youtube-channels-Top-youtube-channels


YOUTUBE KE VIEWS KAISE BADHYE

3. SeeKen (Book Summary)
Seeken name se channel aapko youtube par asani se search karne se mil jaayega. Inka channel bhi youtube pe kaafi famous hai. Inke bhi kaafi achhe subscriber hai or ye apna kaam kaafi achhe se kar rhe hai. Ye apne channel SeeKen me Business books, Motivational Books or Self Improvement books ki summaries hindi me btate hai. Agar aap bhi kuch nyaa sikhna chahte hai to inke channel par jaurur visit kare taaki aap bhi kuch nya sikh sake. Kyoki books ko English me samaj pana thoda sa muskil hota hai isliye inhone isi kaam ko kaafi aasan bna diya hai or har jaruri book ko aapke liye hindi me btaya hai.

4. Abby Viral (Motivational Channel)
Agar aap bhi aapne aapko har time full energy me rakhna chahte hai ya fir har dum motivate rahna chhate hai to aapko bhi Abby Viral ke rap sun lene chahiye. Abby viral ka andaaz ekdum different hai ye apne Rap style se logo ko kaafi motivate karte hai. Abby Viral ji khud ek achhe entrepreneur hai or according to me ek entrepreneur ki success k liye kya jaruri hota hai, ye inse achha koi nhi jaanta. Isliye mera manna hai ki or channels ki trah aapko ye channel bhi jarur subscribe kar lena cahahiye.

GMAIL KE SECURITY FEATURES 

5. CoolMitra (Motivational Channel)
CoolMitra bhi kaafi achha channel hai, self motivation or self improvement ke liye aapko yhan bahoot kuch sikhne ko milega. Isliye agar aap motivate rehna chahte hai to ye channel bhi aapke liye kaafi faydemand ho sakta hai or aapko bahoot kuch nya sikhata hai. Isliye is channel ko bhi dekhna na bhule aur achha lge to dusro ke saath bhi share kare.


Most-subscribed-youtube-channels-Most-viewed-youtube-channels-Top-youtube-channels

Some Other Most subscribed youtube channels


Most viewed youtube channels

1. Sed Talk (Web Developing, SEO, Technology Channel)
2. Yebook (Self Motivated, Motivational Channel)
3. Technical Guruji (Tech Channel)
4. Technical Rippon (Web Developing, SEO, Blogging)
5. Technology Tips Israil (Technical Channel, Blogging)
6. Online Shayata (Technical Channel)
7. Technical Yogi (Technical Channel)

STARTUP KAISE SHURU KARE

Friends ye kuch channels hai jo aapko kaafi jyada knowledge dene wale hai. Inme se koi bhi channel fake nhi hai. Sabhi channels ke kaafi achhe subscriber hai or views bhi kaafi achhe hai. Koi bhi youtuber fake news nhi deta hai hai. Agar aap kuch nya sikhna chahte hai to in channel par jarur visit kare. Ye sabhi channels Most subscribed youtube channels hai.
Post kaisi lgi apni view comment box me jarur de. Kisi bhi parkar ke swaal ya fir sujaav ke liye aap humey email bhi kar sakte hai. Aaj ki post Most subscribed youtube channels aapko kaisi lgi comment jarur kare or agar post achhi lge to apne friends ya relatives k saath share karna na bhulen. Hmare saath jude rahne k liye aap sabhi ko meri or se thanku soo much friends. Isi trah ki interesting informations ko jaanne k liye hmari website par visit karte rahe. 

Saturday, November 24, 2018

How to live stress free life in Hinid - तनाव मुक्त लाइफ कैसे जिये

आज हर व्यक्ति खुद को सफलता के लिए तैयार कर रहा है. अपनी life को बेहतर बनाने में लगा हुआ है. एक विद्यार्थी जहाँ अपनी परीक्षा में अच्छा करना चाहता है वही एक बिजनेसमेन अपने बिजनेस में मुनाफा कमाना चाहता है. हम सब लोग एक Better Life के लिए Preparing करने में लगे हुए है.

लेकिन सफलता की इस Race में कब हम लोग तनाव की चपेट में आ जाते है पता ही नहीं चलता. माता – पिता को अपने बच्चो के भविष्य की फ़िक्र है तो एक Youth को अपने Career की. कोई अपनी Relationship से संतुष्ट नहीं तो कोई अपनी Job से परेशान है.

How to live stress free life in Hinid - तनाव मुक्त लाइफ कैसे जिये -

यानि कहने का अर्थ यह है कि अधिकतर लोग आज अपना जीवन टेंशन में बिता रहे है. लोगो के पास सारी सुख – सुविधा होने के बाद भी वे परेशान है. तनाव के अधिक बढ़ जाने से लोगो को कई प्रकार के मन के रोग हो रहे है जिसमे चिन्ता, हिस्टीरिया, डिप्रेशन, पैनिक और डिसऑर्डर आदि शामिल है. 

how-to-live-stress-free-life-in-hindi

तनाव का मतलब क्या है :

तनाव शरीर की वह स्थिति होती है जब हमारी लाइफ में अचानक कोई बदलाव हो जाता है जिससे हमारे शरीर में भावनात्मक और शारीरिक प्रतिक्रिया होती है. जब हमारे मस्तिष्क को अच्छी तरह से आराम नहीं मिल पाता है तो हमारा Mind थक जाता है और थका हुआ माइंड हमें तनाव की ओर ले जाता है.
इस कारण से यह तनाव हमारे शारीरिक, मानसिक और मनोवैज्ञानिक कार्यप्रणाली को गड़बड़ा देती है और हमारे कई हार्मोन्स को बढ़ा देते है. तनाव के अधिक बढ़ जाने से व्यक्ति डिप्रेशन में चले जाता है

तनाव में रहने के लक्षण क्या हैं :

वैसे तो तनाव के कई सारे लक्षण होते है लेकिन यहाँ हम आपको कुछ प्रमुख लक्षण बता रहे है जो किसी व्यक्ति के तनाव में होने की स्थिति को दर्शाता है.

*. नींद का गायब रहना.
*. पाचन क्रिया का धीमा हो जाना.
*. रक्त संचार का ठीक न होना.
*. वजन घट जाना.
*. दिल का तेजी से धड़कते रहना.
*. अचानक ब्लड प्रेशर बढ़ जाना
*. थकान महसूस करना.
*. मन का उदास रहना.
*. सांसे अचानक तेज होना. 

पढ़ें :  अपने कल को बेहतर कैसे बनायें 

तनाव के प्रमुख कारण कौन से है :

तनाव होने के कई कारण होते है और कई व्यक्ति तो छोटी – छोटी बातो से ही टेंशन में आने लगते है. तनाव के कुछ कारण प्रमुख है.

*. प्रेमपूर्ण रिश्तो में खटास हो जाना.
*. वैवाहिक जीवन में परेशानी होना.
*. किसी काम को पूरा करने के लिए समय का अभाव होना.
*. किसी गंभीर बीमारी का होना.
*. आर्थिक समस्याएं ठीक न होना.
*. परिवार में समस्याएँ होना.
*. नौकरी का अचानक बदल जाना या नौकरी से निकाल देना.
*. बच्चो की फ़िक्र रहना.
*. अपने नजदीकी रिश्तो में किसी की मृत्यु हो जाना.
*. कर्ज का होना.
*. पैसो की तंगी होना.
*. अपने जीवन से संतुष्ट न हो पाना.
*. किसी चीज के अपेक्षा रखना.
*. सपनो का पूरा न हो पाना.
*. परीक्षा में फ़ैल हो जाना.
*. नौकरी न लग पाना.

how-to-live-stress-free-life-in-hindi

तनाव को दूर करने के आसान उपाय : कैसे बचे तनाव से ?

अगर तनाव को सही समय पर पहचान लिया जाए तो इससे निकलना काफी आसान हो जाता है. यहाँ पर आपको तनाव से निकलने के तरीके बताये जा रहे है. आप तनाव से निकलने के लिए इन्हें अपनाना शुरू करे.

1. अपने समय का प्रबंधन करे : 
आज के भागमभाग वाले समय में यह बहुत जरुरी है की आप अपने दिनभर के कार्यो की सूची बनाये और सबसे पहले जरुरी कार्यो को पूरा करे. जरुरी कार्यो को टाले नहीं अन्यथा वे बाद में तनाव का कारण बनेंगे. आप अपने उन कार्यो को दिन में पूरा करने की सोचे जो आपके लिए बहुत जरुरी है. अपने समय को व्यर्थ में न गवाएँ. 

पढ़ें : इलाची खाने के फायदे 


2 सही लाइफस्टाइल चुने : 
हमारी लाइफस्टाइल हमें succes बना सकती है तो हमें असफल भी कर सकती है. इसलिए हमें अपनी दिनचर्या को सही बनाना चाहिए. जिस प्रकार से नियत समय पर सोना जरुरी है, ठीक उसी प्रकार से सुबह नियत समय पर उठना भी जरुरी है. उठने के बाद योग और व्यायाम अवश्य करे. इसके बाद पौष्टिक नाश्ता ले. भोजन में पौषक तत्वों को शामिल करे. यदि आपको इसमें परेशानी हो रही है तो किसी एक्सपर्ट से या डाइटीशियन की हेल्प ले.

3. स्वयं के लिए समय निकाले :
जिन्दगी जीने के लिए जितना जरुरी कार्य करना है उतना ही जरुरी है अपने लिए समय निकालना. केवल काम करते-करते जिन्दगी में एकरसता आ जाती है. इस एकरसता को तोडना जरुरी है, इसके टूटने पर ही नयी उर्जा मिलती है. समय-समय पर तमाम व्यस्तताओ के बीच मौज-मस्ती के लिए समय निकालना बहुत जरुरी है.
स्वयं को थोडा अधिक समय देने का प्रयास करें. ज़रूरी नहीं है कि हर काम घड़ी देखकर किया जाए. समय की कमी हो तो मीटिंग टाल दें. यदि फोन या ई-मेल से बात बनती हो तो मिलने की क्या ज़रुरत है ? यदि यह संभव न हो तो मीटिंग का कोई वक़्त फिक्स न करें. इस तरह कभी-कभार बचने वाले थोड़े-थोड़े समय को स्वयं को देने में या पसंदीदा काम करने में लगायें. 

4. सकारात्मक सोच जरुरी है :
चाहे कैसी भी स्थितियां आये. अपनी सोच सकारात्मक रखे. अगर आपकी सोच नकारात्मक हो गयी तो आप किसी भी समस्या का समाधान नहीं कर सकते. साथ में आपको इससे केवल परेशानी ही होगी जबकि पॉजिटिव थिंकिंग के बल पर आप बड़ी से बड़ी समस्या का हल आसानी से निकाल सकते है. नकारात्मक सोचने से हमारी कार्य  करने की क्षमता भी प्रभावित होती है.

5. संबंधियों के साथ रहे :
किसी ने बहुत ही सही कहा है की ख़ुशी के पल को चार संबंधियों संग बांटने पर वह चार गुना और बढ़ जाती है, जबकि दुःख को चार संबंधियों संग बांटने पर वह एक चौथाई ही रह जाता है. इसलिए सुख हो या दुःख उसे अपने संबंधियों के साथ जरुर शेयर करे. इसके साथ ही समय-समय पर अपने संबंधियों से मिलने का मौका निकाले. ऐसा न हो की केवल जरुरत के समय ही आप उनको याद करे. हमारा जीवन संबंधियों और रिश्तेदारों का साथ मिलने से और बेहतर बन जाता है.

6. दूसरों की मदद करें :
दूसरो की मदद करना एक बहुत ही उच्च कोटि का गुण होता है. जो आपको बहुत खास बना देता है. अगर आप तनाव में हो और तब आप अगर किसी गरीब की या जरूरतमंद व्यक्ति की सहायता करते हो तो निश्चित है की आपका तनाव बहुत हद तक कम हो जायेगा. किसी की help करने से मिलने वाली सन्तुष्टि हमारे feeling of anxiety को कम करती है और हमें तनाव से मुक्त होने में help करती है. जब दूसरों का जीवन बेहतर होगा तभी आपका जीवन बेहतर बनेगा.

7. व्यायाम करें और तनाव भगाएँ : 
बचपन से हम सुनते आ रहे है की हमें रोजाना व्यायाम करना चाहिए. पर हम कभी भी इस बात को सीरियसली नहीं लेते. हम व्यायाम करने के लिए आलस करते है. अगर आप हर रोज़ व्यायाम करते हो तो आपको तनाव को कम करने में बहुत मदद मिलती है क्योंकि व्यायाम के समय और बाद में हमारी मांसपेशियों की बहुत अच्छी एक्सरासाइज़ होती है और उन्हें आराम भी मिलता है. जिस से हमें नींद लेने में आसानी होती है और हमारा मूड भी अच्छा रहता है. इसलिए रोज व्यायाम जरुर करे. 


8. सुबह जल्दी उठें :
अगर सभी से यह पूछा जाए की आप सुबह late में उठे तो लगभग सभी लोग यही चाहेंगे. आराम हर कोई करना चाहता है लेकिन यह आराम हमारे लिए हराम भी हो सकता है. देर से उठना कई परेशानियों की जड़ है. किसी दिन अगर आप कुछ समय लेट में उठते हो तो आपने जरुर यह नोट किया होगा की आपको सभी काम करने के लिए बड़ी मशक्कत करनी पड़ती है. हमारे काम पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है. जल्दी उठने की आदत डालें. यह आपको कई फायदे देगा और साथ में आपको तनाव से भी दूर रखेगा.

9 . नशे से दूर रहे :
अधिकतर लोग जो सबसे बड़ी गलती करते है वह है तनाव के समय नशा करना. तनाव में जब कोई व्यक्ति होता है तब उस किसी सहारे की जरुरत पड़ती है लेकिन अधिकांश लोग इसका उपचार गलत ढूंढते है और इससे निकलने के लिए नशे का सहारा लेते है जो की बिलकुल भी उचित नहीं.  नशे (तम्बाकू, शराब) का सेवन करने से हमारे सोचने की क्षमता पर काफी Negative Effect पड़ता है. जिससे हमारा तनाव कम होने के बजाय और ज्यादा बढ़ जाता है. इसलिए इससे जितनी दूर हो सके दूर ही रहे.

10. दोस्तों से बात करे :
आपको जब कभी भी लगता है की आप तनाव में है. आप तब इस तनाव से निकलने के लिए अपने दोस्तों की मदद ले सकते है. आप अपने दोस्तों से मिलने के लिए जा सकते है या उनसे फ़ोन पर बात कर सकते है. अपने जिगरी दोस्तों से जब आपकी बात होगी तो आपका तनाव इससे कम हो जायेगा. दोस्तों के सुख – दुःख भरी बातें सुनकर आपको जरुर तनाव से राहत मिलेगी.

11. मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान दे :
हम जब तनाव में होते है तब हमारा मानसिक स्वास्थ्य सबसे ज्यादा प्रभावित होता है. मानसिक स्वास्थ्य को ठीक करने के लिए हमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा चाहिए होती है. ये हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए ऊर्जा के प्रमुख स्रोत है. इसलिए अपने भोजन में इन चीजो को प्रमुख रूप से तरजीह दे. जब आपका मन अच्छा होगा तभी आप अच्छा सोच पाएंगे.

12. अच्छा भोजन और आहार ले :
अच्छे स्वास्थ्य के लिए हमारा अच्छा भोजन करना अति आवश्यक हो जाता है. जब हम अच्छा खायेंगे तभी हम अच्छा सोच पाएंगे. तनाव से निकलने में हमें अच्छा और पौष्टिक भोजन मदद करता है. अगर आप लम्बे समय से तनाव में है तो आप अपने भोजन में प्रोटीन, फल और सब्जियों का भरपूर इस्तेमाल करे. चाय और कॉफ़ी का उपयोग कम ही करे.
How to live stress free life in Hinid - तनाव मुक्त लाइफ कैसे जिये

13. एक समय में एक काम करे :

आज के ज़माने में लोग हर काम को फटाफट निपटाना चाहते है जिस कारण वे एक समय में सभी कार्य करने की सोचते है और इस प्रयास में वे एक बहुत बड़ी गलती  करते है. वह अपने किसी Particular work पर ध्यान नहीं रख पाते. जिस कारण उनके सारे काम सही ढंग से पूरे नहीं होते. नतीजा यह होता है की उन्हें तनाव अपनी गिरफ्त में ले लेता है. आप ऐसा करने से बचे और एक समय में एक ही काम को वक्त दे.

14. बुरी आदतों को त्याग दे :

मनुष्य का जीवन ऐसा है जहाँ वह बुरी आदतों को अपनाकर अपने शरीर का नाश करता है. जब हम पैदा होते है तब हम स्वस्थ होते है और हमारा शरीर के सभी अंग बिलकुल ठीक होते है किन्तु हम अपनी बुरी आदतों के कारण अपने शरीर का नाश कर देते है और एक समय ऐसा आता है जब हमारा शरीर इन बुरी आदतों से इतना भर जाता है की व्यक्ति की मौत हो जाती है. इसलिए आप खुद के अन्दर झांक कर देखे की आप में कौन सी बुरी आदते है. सभी लोगो में कोई न कोई बुरी आदत होती है. इसलिए आप अपनी बुरी आदतों को समय रहते दूर कर ले वरना तनाव के कारण आपको इसका बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा.

15. बेकार बातो को टाल दे :
अधिकांश लोग इसलिए तनाव में रहते है क्योंकि वो खुद की तुलना दूसरो से करते है जिसमे उनके दोस्त, रिश्तेदार, सहकर्मी आदि होते है. ऐसा करना कभी भी ठीक नहीं क्योंकि हर व्यक्ति की Condition हमसे अलग होती है. आप उन बातो को कभी भी ज्यादा तव्वजो न दे जिनका आपके जीवन से ज्यादा मतलब नहीं होता. छोटी – छोटी बातो को भूल जाए. खुद को उन्ही कार्यो या बातो में लगाये जो आपको Improve करे. बेकार की बातो से दूरी बनाये रखना ही ठीक है.
How to live stress free life in Hinid - तनाव मुक्त लाइफ कैसे जिये

16. अच्छी किताबे पढ़े :
जी हाँ, तनाव के समय किताबें हमें तनाव मुक्त रख सकती है. आप ऐसी किताबो को पढ़ सकते है जो आपको एक नयी शिक्षा देते हो, जीवन में आगे बढ़ाने की सीख देते हो, आप महान व्यक्तियों की जीवनी भी पढ़ सकते हो. इसके अलावा आप इन्टरनेट पर हमारा ब्लॉग भी पढ़ सकते हो जो आपको लगातार कुछ नया और बेहतर जीवन जीने की शिक्षा देगा.

17. झूठ कभी भी न बोले :

झूठ बोलने का हमारे तनाव से बहुत हद तक सम्बन्ध होता है. जब हम किसी भी व्यक्ति से झूठ बोलते है तो हम एक बहुत बड़ा गुनाह करते है और इसकी सजा हमारे शरीर की अदालत यानी हमारी आत्मा देती है. जो सबकुछ जानती है. अगर आप किसी व्यक्ति से झूठ बोलते हो तो यह हमारे तनाव का कारण बन सकता है. इसलिए झूठ बोलने से बचे और सच बोलने की आदत डाल ले. 

और पढ़ें : होम लोन कैसे लें 


18. आध्यात्म को अपनाये :

आपने धार्मिक व्यक्तियों को जरुर देखा होगा उनमे एक बात Common होती है और वह Strees level का जीरो होना. उनको आध्यात्म से एक सकारात्मक उर्जा मिलती है. आप धार्मिक साहित्य नियम से पढे और धार्मिक संगीत सुने. अपने आचरण मन, वचन, कर्म को शुद्धता की ओर ले जाए. दया, प्रेम सहिष्णुता, सरलता को सबसे ऊपर रखे. आध्यातिम्क चीजे हमें नकारात्मक सोच से बाहर निकालती है.

19. पसंदीदा Music सुने :

टेंशन के समय आप अपना Favourate music सुने. संगीत हमें शांत करता है और हमें बोरियत से बाहर निकालता है. आप अपने मूड के हिसाब से अपने गाने सुन सकते है. संगीत में बहुत शक्ति होती है जो हमें खालीपन से उबरने में सहायक होती है और हमारे Real life को संगीत के माध्यम से दर्शाती है. इसलिए म्यूजिक सुने और अपना तनाव दूर करे.

20. घूमने की योजना बनाये :
अगर आप लम्बे समय से तनाव की चपेट में है तो घूमना आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगा. घूमने से हमारी लाइफ में एक बदलाव आता है जो हमारी नेगटिविटी को दूर कर देता है और हमें सकारात्मक बना देता है. अपना समय निकाल कर घूमने की योजना बनाये. जब आप अपने इस माहौल से निकलोगे और आप घूमने से एक नए माहौल में पहुँच जाओगे. जो आपको एक नयी उर्जा देगा और आप अपने तनाव को दूर करने में सक्षम होओगे.

21. रोजाना ध्यान करे :
प्रतिदिन कुछ मिनट ध्यान करने से मन को शांति मिलती है. इससे मानसिक, भावनात्मक व शारीरिक राहत महसूस होगी. ध्यान करने से व्यक्ति एक अलग ही दुनिया में पहुँच जाता है जहाँ से लौटने पर उसे अपनी यह दुनिया में काफी सुन्दर लगती है. जी हाँ, जब हम ध्यान में होते है तब हमें अपनी कमजोरियां और हमारी मजबूती दिखती है जो खुद को बेहतर करने में सहायक होती है. ध्यान करने से हमें एक सुकून मिलता है और मन खुशनुमा हो जाता है.
How to live stress free life in Hinid - तनाव मुक्त लाइफ कैसे जिये

22. हँसाने वाली चीजो से जुड़े :
तनाव में व्यक्ति मुरझाया नजर आता है उसका चेहरा Sad रहता है इससे निकलने के लिए आप ऐसी चीजो से जुड़ सकते है जो आपको अच्छा feel कराये आपको ख़ुशी दे. आप टीवी देख सकते है, हँसने वाले सीरियल देख सकते है, youtube में हजारो हास्य विडियो देख सकते है, जोक्स पढ़ सकते है और उन लोगो के साथ रह सकते है जो हँसाने में माहिर होते है. ऐसे में आप अच्छा महसूस करेंगे. 

how-to-live-stress-free-life-in-hindi


23. नहीं कहना भी सीखे :

अधिकांश लोग अपने दोस्तों या सम्बन्धियों से कई बार अनावश्यक रूप से हाँ बोल देते है यानी किसी कार्य को करने के लिए उनका काम भी अपने ऊपर ले लेते है. जो उचित नहीं है, अगर आप खुद को पूरी तरह से फिट महसूस करते है तब ही हाँ बोले वरना खुद को अनावश्यक मुसीबत में न डाले. पहले खुद को प्राथमिकता दे उसके बाद दूसरो को. अगर आप किसी चीज को बेहतर ढंग से नहीं कर पाते हो तो उसे जबरदस्ती करने के लिए कभी तैयार मत रहो. खुद के लिए कुछ चीजो को "नहीं" कहने से कुछ आप तनाव से बच जायेंगे. 

और पढ़ें : गुनगुना पानी पीने के फायदे 


24. योगा करे :
आज योगा हमारे कई बीमारियों को दूर कर रहा है. योग में वह शक्ति है जो किसी भी बीमारी को दूर कर सकती है. तनाव को दूर करने के लिए योग का महत्व और अधिक बढ़ जाता है क्योंकि योग हमें तनाव से मुक्त कर देता है. आप तनाव से निकलने के लिए योग करे जिसमे आप अनुलोम – विलोम, साँसो को तेजी से अंदर – बाहर ले सकते है.

25. गहरी नींद ले :
गहरी नींद लेना तनाव दूर करने का सबसे उपयुक्त तरीका होता है. आप खुद इसे आजमा के देख ले. जब हम गहरी नींद लेते है तो तब हमें काफी relaxe मिलता है और हम बेहतर महसूस करते है. आप जब भी तनाव महसूस हो आप एक अच्छी सी नींद ले. वैसे एक दिन में हर व्यक्ति को 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए.

26. ठन्डे पानी से नहाये :
तनाव दूर भगाने का यह मेरा सबसे कारगर हथियार है. मुझे जब भी तनाव घेरता है तब मैं तनाव से निकलने के लिए ठन्डे पानी से नहाता हूँ. आपको जब भी तनाव घेरे आप ठन्डे पानी से नहाये और जमकर नहाये. जब ठन्डे पानी की धारा हमारे शरीर में पड़ती है तो हमारा शरीर हमारे तनाव के लेवल को कम कर देता है और हमारे अंदर तनाव को कम करने के हारमोंस प्रोड्यूस हो जाते है.

27. अपनी Hobby को वक्त दे :
हमारी हॉबी हमें कभी भी अकेला नहीं रखती. यह हमारे अन्दर जीने की इच्छा को बनाये रखती है और हमारे अन्दर Positivity लाती है. जो हमने खुश रखने में मदद करती है. आप अपनी leisure activity (like; cricket, recreations, music, trevling, strolling, dansing, painting) के लिए समय निकाले और अपने तनाव को दूर भगाए.

28 पोटेशियम ले :
पोटेशियम एक मिनरल है, जो हार्टबीट को सामान्य रखने में मदद करता है और ऑक्सीजन को मस्तिष्क तक पहुंचाता है. यह शरीर में पानी के संतुलन को भी नियमित बनाए रखता है. जब हम मानसिक तौर पर तनाव की चपेट में होते हैं तो हमारा मेटाबॉलिक रेट बढ़ने लगता है जिसके कारण शरीर में पोटेशियम का स्तर गिरने लगता है. इसे फिर से संतुलित करने के लिए हमें हाई पोटेशियमयुक्त पदार्थों की जरुरत होती है. इसलिए आप पोटेशियम utilize करे.

और पढ़ें : जीवन में खुश रहने के आसान तरीके 


29. केला खाएं और तनाव कम करे :
केले को तनाव को दूर करने के लिए सबसे अच्छा फल माना जाता है. यह तनाव को दूर तो करता ही है साथ में हमारे स्वास्थ्य के लिए भी यह बहुत उपयोगी फल है. इसलिए आप केले का भरपूर इस्तेमाल करे.
How to live stress free life in Hinid - तनाव मुक्त लाइफ कैसे जिये
30. डॉक्टर से सलाह ले :
अगर ऊपर बताये गये सभी टिप्स को आजमाने के बाद भी आपके तनाव में कोई कमी नहीं आती है तो आप डॉक्टर से इस बारे में सलाह ले. उन्हें अपने तनाव के बारे में बताये जिससे वे आपकी पूरी help करे.
फ्रेंड्स उम्मीद करती हूँ आप सभी को जानकारी पसंद आयी होगी। अगर आपका  दोस्त या रिश्तेदार कोई  तनाव में है और उसको ये सब जानना जरुरी है तो प्लीज अपने मित्रो और सगे-सम्बंदियो के साथ पोस्ट को शेयर करना न भूलें। किसी प्रकार के सवाल अथवा सुझाव के लिए आप हमे कमेंट या फिर ईमेल कर सकते है। पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट बॉक्स में जुरूर बताएं। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए आप सभी का धन्यवाद। इसी तरह की रोचक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पे हमेशा विजिट करते रहें। 

Wednesday, November 21, 2018

Your today decide your future, so make it bright | जाने आपका कल अच्छा कैसे हो

हेलो फ्रेंड्स, कैसे है आप सब, उम्मीद करती हूँ आप सब अच्छे होंगे। फ्रेंड्स आज की पोस्ट बहुत ही ख़ास होने वाली है क्योकि आज की पोस्ट जुडी है आपके फ्यूचर से और आप जानते ही की हमारे लिए हमारा फ्यूचर अच्छा होना कितना जरुरी है। हमारा फ्यूचर अच्छा कैसे हो, यही हम आज की पोस्ट में जानेगे क्योकि जो हम आज कर रहे है वही हमारा फ्यूचर बना रहा है। तो ऐसा क्या किया जाए की हमारा फ्यूचर ब्राइट हो, तो चलिए जान लेते है आज की पोस्ट के बारे में। पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़िए और अगर अच्छी लगे तो पोस्ट को शेयर करना न भूलें। 

your-today-decide-your-future
Your today decide your future, so make it bright

आज मुझे अहसास हो गया की मैं अपनी लाइफ में कुछ नहीं कर पा रहा.. मैं अभी कुछ भी ऐसा नहीं कर रहा जिससे मेरा आने वाला Future Bright हो. आजकल सुबह से लेकर शाम कब हो जाती है पता ही नहीं चलता.. रात को जब सोते हुए आज के दिन को देखता हूँ तो ऐसा लगता है की आज का दिन पूरा बर्बाद हो गया… अब यह तो होना ही था क्योंकि मेरे लिए जो आज सबसे इम्पोर्टेन्ट काम हो रखे है वो है फेसबुक चलाना, Instagram पर स्टोरीज डालना, Youtube पर कॉमेडी विडियो देखना, Whatsapp पर Chating करना.
अब इन चीजो से छुटकारा मिले तब कुछ करूँगा न लाइफ में ढंग का. पर नहीं मुझे तो आदत पड़ चुकी है इन चीजो की. बार – बार बस मोबाइल को जेब से निकालकर देखता रहता हूँ जैसे मेरे बिजनेस से रिलेटेड कोई Msg आया हो..फ़ोन में नोटिफिकेशन आया नहीं मैंने फ़ोन पर नजरे गढ़ा ली. हमें सोशल मीडिया के बारे में जानकारी तो मिल गयी और उसके फायदे भी पता है लेकिन हमें उसे यूज़ कैसे करना है उस चीज में हम अनपढ़ जो है.

आज हमारे पास टाइम है कुछ करने का, कुछ ऐसा बड़ा करने का जो हमारी पूरी ज़िन्दगी को यादगार बना सकता है.. कुछ ऐसा की जिससे अपनी आने वाली पूरी जिंदगी हैप्पी वाली हो पर नहीं यह हम तब सोचेंगे न जब हमें अपनी लाइफ की चिल्ली चीजो से फुर्सत मिलेगी. कर लो बर्बाद कर लो.. अभी आप अपना समय यहाँ गवां दो कुछ समय बाद आप कुछ अपने आसपास नया देखोगे जो किसी आपके आसपास के इन्सान ने ही शुरू करी है.
अरे Youtube फेमस हो गया, uber इंडिया आ गया.. क्या Ola से गाड़ी बुक कराये.. Zamato से खाना आर्डर करो बहुत फेमस हो रखा है. Shopping तो Amazon से करेंगे. ऐसे ही चौक जाते हो न आप. जब ऐसी नयी – नयी चीजे अपने आसपास देखते हो. ये लोग दिन – रात मेहनत करके कुछ प्रोडक्टिव काम कर रहे है वही हम है जो अपनी लाइफ बर्बाद कर रहे है.

your-today-decide-your-future
Your today decide your future, so make it bright

किसी ने सही कहा है.. अभी आप समय को बर्बाद कर लो, कुछ टाइम बाद यह समय आपको बर्बाद करेगा.. जाग जाओ भाई जाग जाओ. हर चीज की एक लिमिट होती है. हर चीज के Plus Minus है, किसी चीज का हद से ज्यादा यूज़ करोगे तो बर्बाद हो जाओगे. मुझे पता है आप यह विडियो देखने के बाद फिर उसी रूटीन पर आने वाले हो. कोई बात नहीं.. पर अगर थोड़ी सी भी दिल में लगी है न.. तो खुद को अवेयर करो.. हर चीज को कैसे चलाना है उसे वैसे ही चलाओ.

किसी भी चीज के लिए पागल मत मन जाओ. अपने दिमाग का इस्तेमाल करके लाइफ में आगे बढ़ो. उस चीज में अपना दिमाग अपना टाइम इन्वेस्ट करो जहाँ से आपकी लाइफ बेटर बनने वाली है जहाँ से आपका फ्यूचर ब्राइट होगा. तो दोस्तों यह था मेरा एक छोटा सा प्रयास आपको अगर यह Article पसंद आया हो तो नीचे कमेंट करे. आपका हर एक कमेंट मेरा उत्साह बढाता है
फ्रेंड्स इसलिए मेरा विचार है की प्लीज अपना समय कभी भी खराब न करें और हमेशा कुछ ऐसा करते रहें जो आपके कल के लिए बेहतर हो, आप कोई स्किल सीखें या फिर कुछ ऐसा करे जिस से आपके कल पे अच्छा प्रभाव पड़े और आप सही दिशा में आगे बढ़ें। पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर करना न भूलें। हमसे जुड़े रहने के लीये धन्यवाद। 

Tuesday, October 30, 2018

Best life insurance policy in India - भारत की सबसे अच्छी बीमा पॉलिसी

आज की पोस्ट Best life insurance policy in India के बारे में है, वैसे तो हमारे भारत में बहुत सी बीमा कम्पनियाँ  है, उनके सभी के प्लान भी अलग अलग प्रकार के है। ऐसे में हर कोई चिंता में पड़ जाता है की उसके लिए कोनसी पालिसी अच्छी हैं  और कोनसी पालिसी उसको लेनी चाहिए। क्योकि हर कोई अपने जीवन में निश्चिंतता चाहता है। वह सिर्फ अपने ही नहीं बल्कि अपने बाद भी अपने परिवार को सुखी और सुकून की जिंदगी जीते हुए देखने का ख्वाहिशमंद होता है। और शायद मानव की इसी सोच से जीवन बीमा Life Insurance) का कांसेप्ट हमारे सामने आया।
शायद यही कारण है कि हर गम्भीर सोच का व्यक्ति अपने लिए एक अच्छी जीवन बीमा पालिसी की (Life Insurance Policy) तलाश में रहता है। पर दुर्भाग्यवश या तो जानकारी का अभाव, यह फिर बीमा एजेंटों की धूर्तता, परिणाम यह होता है कि लोग ऐसी पालिसियों में फंस कर रह जाते हैं, जो अंतत: उन्हें ठगा हुआ महसूस करने के लिए विवश करती हैं। 

Best-life-insurance-policy-in-India
भारत की सबसे अच्छी बीमा पॉलिसी 


Best life insurance policy in India -भारत की सबसे अच्छी बीमा पॉलिसी 

ऐसा मेरे साथ भी हुआ है। यही कारण है कि मैंने एक अच्छी जीवन बीमा पालिसी (Insurance Policy) जानने के लिए काफी कोशिश की और कोशिश में मुझे सफलता मिली और अंतत एक अच्छी जीवन बीमा पालिसी के बारे में मुझे पता चला। और आज वही पॉलिसी की जानकारी में  आप  सभी के साथ शेयर कर रही हूँ। उम्मीद करती हूँ की जानकारी आपको पसंद आएगी और आपके लिए फायदेमंद भी होगी। इसलिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें और जानकारी अच्छी लगे तो अपने मित्रों और फैमिली मेंबर्स के साथ जरूर शेयर करें। 

संतोष: भारत की सबसे लाभप्रद जीवन बीमा योजना (Best life insurance policy in India )

भारतीय डाक विभाग की 'संतोष' नामक मियादी जीवन बीमा योजना (Life Insurance Plan) एक शानदार पॉलिसी है। इसकी प्रमुख विशेषताएं इस प्रकार से हैं:

1. यह बीमा 19 साल से 55 साल तक की उम्र तक लिया जा सकता है। 

2. पॉलिसी पर ऋण की सुविधा भी उपलब्ध है। इसके अंतर्गत पॉलिसी बॉंड (Policy Bond) को राष्ट्रपति के नाम बंधक रख कर लोन लिया जा सकता है।

3. पॉलिसी में नॉमिनेशन की सुविधा भी उपलब्ध है, जिसे कभी भी बदला भी जा सकता है।

4. यदि पाॅलिसी धारक चाहे तो वह पॉलिसी शुरू होने के बाद भी अपनी किश्त अथवा बीमाकृत राश‍ि को कम भी करवा सकता है।

5. पॉलिसी का भुगता भारत के किसी भी डाकघर से नकद अथवा चेक द्वारा प्राप्त किया जा सकता है।

6. यदि पॉलिसी की 11 महीनों तक किसी कारणवश किश्त जमा नहीं हो पाती हैं, तो भी उसे चालू किया जा सकता है। लेकिन यदि 01 वर्ष से अध‍िक समय तक किश्त जमा न हो, तो उसे पुन: चालू करने के लिए प्रार्थना पत्र देना पड़ता है। 

7. इस पॉलिसी में 60 साल तक रिस्क कवर मिलता है। 

8. इस पॉलिसी पर भी आयकर अध‍िनियम के अन्तर्गत छूट प्राप्त होती है। 

9. पॉलिसी में किश्त की गणना बीमित की आयु के अनुसार होती है। 

10. पॉलिसी की किश्त मा‍सिक रूप से निर्धारित होती है। लेकिन यदि उसे छमाही रूप में जमा किया जाए, तो 1% तथा वार्षिक जमा करने पर किश्त में 2% की छूट प्राप्त होती है। 

11. जीवन बीमा की सभी पॉलिसियों में से कुछ राश‍ि एजेंट को प्रदान की जाती है, किन्तु डाक बीमा (Insurance) में एजेंटों का रोल समाप्त कर दिया गया है, इसलिए एजेंट को दिया जाने वाला कमीशन बीमा धारक को छूट के रूप में प्राप्त होता है।

Best-life-insurance-policy-in-India


 इस पॉलिसी की किश्तें प्रदेश के किसी भी डाकघर में जमा की जा सकती हैं। यदि प्रदेश के बाहर स्थानांतरण हो जाता है, तो वहां भी पॉलिसी स्थानांतरित कराने की सुविधा उपलब्ध है।

12. पॉलिसी पर जबरदस्त बोन का प्राविधान है। उदाहरणार्थ यदि कोई आदमी 10 लाख का बीमा (Insurance) कराता है, तो उसे पॉलिसी की मेच्योरिटी पर 60 हजार रूपये प्रतिवर्ष की दर से बोनस भी प्राप्त होता है।

13. जीवन बीमा की सभी पॉलिसियां में आमतौर से पहली किस्त देने के बाद से 3 महीने बाद ही जीवन बीमा प्रारम्भ होता है, जबकि इस पॉलिसी में पहली किस्त जमा होते ही बीमा कवर (Insurance Claim) प्रारम्भ हो जाता है।

इससे यह स्पष्ट है कि यह एक अत्यंत लाभप्रद बीमा पॉलिसी (Insurance Policy) है, जो अन्य बीमा पॉलिसियों (Insurance Policies)की तुलना में काफी आकर्षक है। इस पॉलिसी की एक नकारात्मक बात सिर्फ यह है कि यह पाॅलिसी सिर्फ सरकारी (केन्द्र तथा राज्य कर्मियों दोनों के लिए) कर्मियों के लिए ही उपलब्ध है। 
दोस्तों ये थी Best life insurance policy in India के बारे में जानकारी  और  जानकारी कैसी लगी दोस्तों, अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें। किसी प्रकार का कोई सवाल है तो आप हमे कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है। जानकारी अच्छी लगी तो नीचे दिए गए फेसबुक और व्हाट्सप्प बटन के जरिये  शेयर जरूर करें। इसी तरह की जानकारी और टिप्स के लिए लगातार हमारे साथ जुड़े रहें। आप सभी का धयवाद फ्रेंड्स। 

Monday, October 29, 2018

Home loan process and Home loan document in hindi - जाने होम लोन कैसे मिलता है और जरुरी डॉक्यूमेंट क्या चाहिए

फ्रेंड हमेशा की तरह आज फिर मैं लायी हूँ आपके लिए बहुत ही दिलचस्प टॉपिक जिसके बारे में हर कोई जानना चाहता है। आज की पोस्ट Home loan process and required document in Hindi के बारे में है। हर व्यक्ति का यह सपना होता है कि वह जीवनकाल में अपने परिवार के लिए एक घर ले सके। लेकिन समय के साथ मकानों की कीमतें तेजी बढ़ती जाती है और ऐसे में एक मध्यम वर्गीय व्यक्ति के लिए घर लेना असंभव सा लगता हैं। लेकिन आज के समय में असंभव या फिर मुश्किल कुछ भी नहीं है. क्योकि आज अगर आपके पास अभी पैसे नहीं है तो आप Home Loan की मदद से अपना घर बना सकते है या खरीद सकते है। लेकिन  क्या आपको पता है की होम लोन (Home Loan)  मिलेगा कैसे व होम लोन (Home Loan) लेने के लिए आपको क्या क्या कागजात की जरुरत पड़ने वाली है। आज हम यह जाने वाले है की Home loan process and required document in Hindi

आज के समय में सभी बैंक होम लोन (Home Loan) दे रही है. इसके लिए कुछ डॉक्यूमेंट की जरूरत होती . यदि सभी जरूरी डॉक्यूमेंट के साथ बैंक जाते हो तो आसानी से लोन मिल जायेगा.

Home-loan-process-and-Home-loan document-in-hindi

Home loan process and home loan document in Hindi

क्या आप होम लोन लेना चाहते हैं? यदि हाँ तो यहाँ इसके बारें में सभी जानकारी दी गई है. कभी – कभी ऐसा होता भी होता है घर खरीदना होता कुछ पैसा बिल्डर को दे चुके होते हैं लेकिन, लोन मिलने में कई मुश्किल आ जाती है. कुछ समस्या बैंक के सिस्टम में है जैसे कुछ लोगों ने लोन लिया और बैंक को नहीं लौटाया तो बैंक जब तक संतुष्ट नहीं हो जाती की हाँ ये बंदा लोन ब्याज सहित लौटा देगा तो उसे लोन नहीं देती है. लेकिन यदि सभी डॉक्यूमेंट के साथ बैंक जाते हैं तो लोन जरूर मिलेगा. 

होम लोन (Home Loan) क्या होता है ?
यदि आप अपना खुद का घर बनाना चाहते हैं। लेकिन आपके पास घर बनाने के लिए पर्याप्त धनराशि नहीं है। तो ऐसे में आप किसी बैंक से घर बनाने के लिए उधार के तौर पर जो धनराशि लेते हैं। तो उसे Home Loan कहा जाता है। Home Loan के लिए आप किसी भी बैंक में अप्लाई कर सकते हैं। बैंक से लोन लेने लेकर अपना घर बनाने के बाद आपको दिए हुए समय के अंदर बैंकों द्वारा दी गई उधार धनराशि ब्याज समेत वापस करनी पड़ती है। होम लोन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि अन्य लोन की उपेक्षा में होम लोन पर कम दर से ब्याज का भुगतान करना पड़ता है।
कितना होम लोन  (Home Loan) ले सकते हैं? 
घर खरीदते समय बैंक 70 से 80 प्रतिशत तक होम लोन  (Home Loan) देती है. जो बच जाता है वह ग्राहक को डाउन पेमेंट करना है. किसी भी लोन के लिए प्रोसेसिंग फी भी देना होता है. जो 0.25 से 2 प्रतिशत तक रहता है. साथ ही इसमें रजिस्ट्रेशन, ट्रांसफर और स्टांप ड्यूटी जैसे चार्ज भी शामिल होते हैं. कुछ फाइनेंस कंपनी बिल्डर के मिल के 90 से 95 प्रतिशत तक फाइनेंस करवा देते हैं लेकिन ज्यादा से ज्यादा डाउन पेमेंट करने की कोशिश होनी चाहिए. होम लोन (Home Loan) देने वाली कंपनी ओर बैंक ब्याज दर कम लेते हैं लेकिन यदि यह लोन लम्बे समय के लिए लिया जाये तो बैंक बहुत ज्यादा ब्याज वसूल लेती है.

Home-loan-process-and-Home-loan document-in-hindi


होम लोन (Home Loan) के लिए जरुरी शर्तें -
अगर आप लोन लेना चाहते है तो होम लोन की कुछ शर्तों को आपको पूरा करना होगा, तभी आप लोन की राशि ले पायेंगे। अगर आप ये शर्तें पूरी नहीं करेंगे तो बैंक आपको लोन देने के लिए मना कर देगा। 
  • जिस बैंक में आप होम लोन के लिए आवेदन करना चाहते हैं। उसने आपका खाता होना जरूरी है।
  • कोई भी व्यक्ति अपने मंथली ग्रॉस इनकम का 80 परसेंट तक ही होम लोन ले सकता है।
  • यदि आपने इससे पहले कोई दूसरा लोन ले रखा है। तो पहले आपको उसका भुगतान करना पड़ता है। उसके पश्चात ही नया लोन प्राप्त होता है।
  • अगर आप पहले से लिए गए किसी लोन का भुगतान नहीं करते हैं। तो आपको बैलेंस सेविंग ऑफ्टर डिडक्शन के आधार पर लोन प्रदान किया जाता है।
  • यदि आपका क्रेडिट कार्ड स्कोर अच्छा नहीं है। या आपने इससे पहले लिए गए किसी लोन का भुगतान करने में लेटलतीफी की है। तो इसका बैंक लोन देते समय चेक करते हैं।
  • हर बैंक की नौकरी पेशा और अपना खुद का स्वरोजगार करने वाले लोगों के लिए अलग अलग नियम हो सकते हैं।

होम लोन (Home Loan) ब्याज दर क्या है?
होम लोन (Home Loan) पर ब्याज दर कम होता है. लेकिन यह बहुत ज्यादा समय के लिए मिलता है इसी वजह से बहुत पैसा ब्याज के रूप में बैंक को लौटना होता है. होम लोन का ब्याज दर (Home Loan Interest rate) कई बातों पर निर्भर करती है. सभी बैंक का ब्याज दर अलग है और यह कई बातों पर निर्भर करती है. कुछ जरूरी बातें हैं जिसका लिस्ट नीचे दिया गया है.

  • लोन लेने वाला क्या करता है (नौकरी, बिज़नस)
  • बिज़नस मैन के लिए ब्याद दर कुछ ज्यादा होता है.
  • महीने की कमाई कितनी है.
  • जिस समय लोन के लिए अप्लाई किया जा रहा है उस वक़्त बेस रेट और रेपो रेट क्या है?
  • नौकरी सरकारी है या किसी निजी संसथान में!
  • सरकारी नौकरी वाले का लोन जल्दी पास हो जाता है.
  • प्राइवेट नौकरी में नौकरी की कितनी गारंटी है इन बातों पर भी ध्यान दिया जाता है.
  • यदि लोन महिला के नाम पर लिया जाये तो कुछ कम ब्याज दर में Home Loan मिल जाता है.

होम लोन (Home Loan) में लेने में कितना खर्च होता है? 
होम लोन के साथ कई खर्च शामिल हैं. लोन एमाउंट का 0.25 से 2 प्रतिशत तक प्रोसेसिंग फी देना होता है. जिसे कई बार बैंक माफ भी कर देती है. ज्यादा महंगी प्रॉपर्टी के मामले में दो वैल्युएशन की जाती है और निचले वैल्युएशन पर लोन सैंक्शन किया जाता है. कर्ज देने वाली बैंक टेक्निकल इवैल्युएशन फी भी लेती है. बैंक लोन लेने वाले व्यक्ति का Document Verification के लिए दूसरी फर्म को नियुक्त करती हैं, जिसका खर्च लोन लेने वाले को देना होता है.

Home loan document in hindi 

Home Loan Document in Hindi क्या किसी बैंक में आपका खाता (Account) है? जरूर होगा तभी तो बैंक लोन के बारें में यह आर्टिकल पढ़ रहे हो. यहाँ हम बात कर रहे हैं बैंक लोन के लिए क्या डॉक्यूमेंट चाहिए? जब बैंक अकाउंट खुलवाने के लिए कई डॉक्यूमेंट जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ दो गारंटर की जरूरत होती है. जब खता धारक (Account Holder) अपना पैसा रखता है तो उसे इतने डॉक्यूमेंट सबमिट करने होते हैं यहाँ तो बैंक आपको पैसे दे रही है. यहाँ तो कुछ ज्यादा ही डॉक्यूमेंट मांगेगी. इसका लिस्ट नीचे दिया गया है और इसके बारें में एक डिटेल पोस्ट भी किया जायेगा.

  • Address Proof
  • Property Details
  • Bank Statement
  • Underwriter
  • Character Proof
  • Work Details
  • Wellspring of pay
  • Most recent Three Years pay Tax Return
Home-loan-process-and-Home-loan document-in-hindi

इन सभी डॉक्यूमेंट के साथ लोन एप्लीकेशन फॉर्म भरें लोन एप्लीकेशन फॉर्म में डॉक्यूमेंट चेक लिस्ट लगा होता है. यदि इसके अलावे भी कोई डॉक्यूमेंट के बारें में बताया गया हो तो उसे भी जमा कर होम लोन के लिए अप्लाई करें कभी – कभी बैंक अपनी संतुष्टि के लिए कुछ और डॉक्यूमेंट भी मांग सकता है.

बैंक जब तक यह सुनिश्चित नहीं कर लेते की लोन लेने वाला ब्याज सहित समय पर लोन लौटा देगा तब तक उसका लोन पास नहीं करती है. इसीलिए लोन लेने जाने से पहले लोन कैसे लौटोगे इसका प्लान होना चाहिए. बैंक कभी भी किसी ऐसे व्यक्ति को किसी भी प्रकार का लोन नहीं देता, जो की उस लोन की राशि को ब्याज समेत लोटा पाने में सक्षम न हो।

निष्कर्ष (Conclusion)
अब तक हमनें होम लोन के बारें में कई जानकारी इकठ्ठा कर लिया है. होम लोन हमेशा कम ब्याज दर पर लेना चाहिए. सभी बैंक का ब्याज दर अलग होता है वैसे ही बैंक का चुनाव करें जिनक ब्याज दर कम हो. लोन एक्सेप्टेंस पेपर पर हस्ताक्षर (Signature) करने से पहले EMI और बैंक यदि कोई Hidden Cost ले रहा हो तो उसे अच्छी तरह से पता कर लेनी चाहिए.
प्राइवेट बैंक से जल्दी लोन मिल जाता है. क्यूंकि इनका ब्याज दर सरकारी से कुछ ज्यादा होता है. प्राइवेट बैंक में प्रोसेसिंग फ़ास्ट होता है यहाँ का सिस्टम थोड़ा तेज काम करता है. लेकिन सरकारी बैंक में इसमें इम्प्लीमेंटेशन थोड़ी देरी से होता है. यही वजह है की यहाँ इंटरेस्ट रेट कम है. इंटरेस्ट रेट कम होने की वजह से ज्यादा लोग यहाँ अप्लाई भी करते हैं अब जहाँ भीड़ होगा वहाँ तो काम थोड़ा धीरे तो होगा ही. लोन लेने से पहले बैंक का चुनाव कर लें और उसी के अनुसार डॉक्यूमेंट तैयार करें.
उम्मीद करती हूँ आप सभी को Home loan process and Home loan document के बारे में अच्छे से पता चल गया होगा। अगर फिर भी आपका कोई सवाल है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। मैं आपकी मदद जरूर करुँगी। पोस्ट अच्छी लगी तो नीचे दिए सोशल मीडिया बटन से पोस्ट को फेसबुक और व्हाट्सप्प पे शेयर जरूर करें। इसी तरह की जानकारी जानने के लिए हमारे ब्लॉग से जुड़े रहें।  धन्यवाद। 

Saturday, October 27, 2018

Tips of Car Insurance, Insurance renewal, Insurance Calculator - जाने हिंदी टिप्स और बचाएँ कुछ पैसे

हेलो फ्रेंड्स आज का टॉपिक है - Tips of Car Insurance. आप सभी अच्छे से जानते होंगे की कार या बाइक खरीदने के साथ साथ हमे अपनी गाड़ी का बीमा (Insurance) भी  करवाना होता है , लकिन  हम बीमा (Insurance)  को इतना सीरियस नहीं लेते जितना की गाडी को खरदीते समय उसके बारे में सीरियस होते है। बीमा के समय हम किसी भी कम्पनी से कोई भी बीमा पॉलिसी (Insurance Policy) ले लेते है , जिसका हमे ठीक से बेनिफिट (Benefits) भी मालूम नहीं होता और अपने पैसे भी लगा देते है वो भी बीमा के लाभ और बीमा  कंपनी की जानकारी लिए बगैर। अगर आप यही काम थोड़ी सी सूझ-बुझ के साथ करें तो पैसे भी बचा सकते हैं और सही बीमा पॉलिसी (Insurance Policy) भी ले सकते है। तो आइये जान लेते है की आप अपनी गाडी का बीमा (Insurance) करवाते समय कुछ टिप्स को आजमा के पैसे कैसे बचा सकते है। 

Tips-of-Car-Insurance-Insurance-renewal

अपने वाहन में एक एंटी थेफ्ट डिवाइस लगवा लें, यह न केवल चोरी होने से आपके वाहन को बचा सकती है, बल्कि आपके Car Insurance प्रीमियम को भी कम कर सकती है।

कार खरीदने के दौरान लोग काफी रिसर्च करते हैं, लेकिन उसी कार का बीमा खरीदने के दौरान इतना ज्यादा रिसर्च नहीं करते हैं। यह बीमा इंडस्ट्री (Insurance Industry) की जटिलता, सूचना की कमी, समय की कमी, लापरवाही और क्लेम से जुड़े नकारात्मक अनुभवों की उनकी धारणा के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। ऑटो बीमा इंडस्ट्री (Insurance Industry) ने इन चुनौतियों का ध्यान रखते हुए इंश्योरेंस (Insurance) को डिजिटल कर दिया है। ताकि लोगों को परेशानी न हो। यह डिजिटलीकरण पॉलिसी धारकों के लिए अच्छा है क्योंकि यह उन्हें इंफोर्मेशन के ऑप्शन, एक उपयुक्त पॉलिसी चुनने और प्रक्रिया में पैसे बचाने के लिए सक्षम बनाता है। ऑटो बीमा कराने से जुड़ी हम आपको कुछ जरुरी बातें बताने जा रहे हैं जो आपकी सहायता करेंगी

ऑनलाइन इंश्योरेंस :
डिजिटल फर्स्ट बीमा कंपनियों ने ऑटो बीमा को सरल और सुविधाजनक बना दिया है। आप उनकी वेबसाइट से कार बीमा (Car Insurance) खरीद या रिन्यू कर सकते हैं जैसे कि आप अपनी पसंदीदा ई-कॉमर्स वेबसाइट से कोई आइटम खरीदते हैं। वे बीमा कवरेज (Insurance Claim) की सीमा पर समझौता किए बिना कम कीमत पर ऑटो बीमा पॉलिसियों की पेशकश करते हैं। वे ऐसा इसलिए कर सकते हैं क्योंकि वे एकमात्र बीमाकर्ता हैं और सीधे ग्राहक को पॉलिसी बेचते हैं। इस तरह, वे ऑपरेशनल कॉस्ट में काफी बचत करते हैं और सस्ती पॉलिसी के रूप में ग्राहकों को उस बचत का एक हिस्सा ट्रांसफर करते हैं। वे कम कीमत वाली पॉलिसी को सुविधाजनक तरीके से प्रदान करके और तनाव मुक्त क्लेम सेटलमेंट की प्रक्रिया की गारंटी देकर एक पैसा वसूल बीमा (Insurance) अनुभव प्रदान करते हैं। 

Tips-of-Car-Insurance-Insurance-renewal

कवरेज का रिव्यू: (Coverage Reviews) 
पहली बार कार और बाइक मालिक आमतौर पर बीमा पॉलिसी खरीदते हैं जो उनके वाहन डीलर द्वारा सुझाया जाता है। यह कवर आदर्श नहीं हो सकता है। इसे खरीदने और रिन्यू करते समय आपको अपनी ऑटो बीमा पॉलिसी के कवरेज की समीक्षा करनी चाहिए। उन राइडर्स के लिए जाने की कोई आवश्यकता नहीं है जो आपके लिए फायदेमंद नहीं होंगे। उदाहरण के लिए, यदि आप अकेले यात्रा करते हैं तो एक यात्री कवर राइडर गैर जरूरी है। इस तरह के ऐड-ऑन आपकी बीमा पॉलिसी की लागत में बढ़ाते हैं। 

नो क्लेम बोनस: (No Claim Bonous) 
पॉलिसी के दौरान क्लेम नहीं लेने के लिए वाहन मालिकों को उनकी बीमा कंपनी (Insurance Company) द्वारा नो क्लेम बोनस (एनसीबी) के दिया जाता है। पॉलिसी को रिन्यू करते वक्त एनसीबी को ऑटो बीमा प्रीमियम पर छूट के रूप में पेश किया जाता है। यह छूट 50फीसदी तक हो सकती है। बशर्ते आप लगातार पांच साल क्लेम न लें। सुनिश्चित करें कि आपके बीमाकर्ता ने ऑटो बीमा रिन्यू पर यह छूट (यदि लागू हो) शामिल की है। 

समय पर रिन्यू कराएं: (Renew on Timely) 
यदि आप पॉलिसी खत्म होने से पहले पॉलिसी रिन्यू नहीं करा पाते हैं तो आपकी बीमा कंपनी वाहन के इंश्योरेंस को रिन्यू करने से पहले वाहन का निरीक्षण कर सकती है। इससे आपकी ऑटो बीमा पॉलिसी का प्रीमियम बढ़ सकता है। यदि आप बीमा खत्म होने के 90 दिनों के भीतर अपनी पॉलिसी रिन्यू नहीं करते हैं, तो आपको नो क्लेम बोनस नहीं मिलेगा। 

Tips-of-Car-Insurance-Insurance-renewal

एंटी थेफ्ट डिवाइस: (Anti Theft Device) 
अपने वाहन में एक एंटी थेफ्ट डिवाइस लगवा लें, यह न केवल चोरी होने से आपके वाहन को बचा सकती है, बल्कि आपके कार बीमा प्रीमियम ( Car Insurance Premium) को भी कम कर सकती है। यदि आपने एंटी थेफ्ट डिवाइस लगवा रखी है तो बीमा कंपनियां बीमा प्रीमियम (Insurance Premium) पर छूट देती हैं। बशर्ते इसे ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया द्वारा प्रमाणित किया गया हो।

उम्मीद करती हूँ आप सभी को जानकारी अच्छी लगी होगी। और आशा करती हूँ Tips of Car Insurance से आपको जरूर फायदा होगा। पोस्ट से जुड़े किसी भी प्रकार के सवाल अथवा सुझाव नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर करें। जानकारी अच्छी लगी तो प्लीज शेयर करना बिलकुल न भूलें। इसी तरह की रोचक जानकारी और हिंदी टिप्स के लिए लगातार हमारे ब्लॉग Hindi Tips Guide पर विजिट करतें रहें। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए आप सभी का धन्यवाद। 

Friday, October 19, 2018

Way to Make Life Happier in Hindi - जीवन में खुश रहने के आसान तरीके

हर कोई अपनी जिंदगी में खुश रहना चाहता है क्यूंकि खुश रहना हमारा जन्मजात स्वभाव है. आपने एक बच्चे को देखा होगा की वह कितना खुश रहता है. इसलिए बचपन के दिन हमारे जीवन के सबसे अच्छे दिन होते है जिंदगी में कई बार ऐसा ख्याल आता है कि काश मेरी लाइफ से सारी परेशानी ख़त्म हो जाये और जिंदगी में सिर्फ ढेर सारी खुशियाँ ही खुशियाँ रहे लेकिन रियल लाइफ में ऐसा नहीं होता है क्यूंकि हम कुछ बेकार बातो को जरुरत से ज्यादा अपनी जिंदगी में महत्व देते है. ऐसे तो हम सभी अपने लाइफ को आसान और सरल बनाने के लिए जी-तोड़ मेहनत करते है जिससे हमारे जीवन में खुशियों कि बौछार हो और हम अपने जिंदगी का पुरे तरह से आनंद उठा सके. 

और पढ़ें : ग्रुप डिसकशन टिप्स इन हिंदी 
लोग दिन भर के कड़ी मेहनत करने के बाद जानना चाहते है कि ऐसी कौन सी चीज है जो उसके लाइफ को सरल और खुशहाल बना सकता है. जिससे उनका पूरा जीवन खुशियों में हँसते हुवे कट जाये. आज मैं आपसे ऐसे ही कुछ आदतों या चीजों के बारे में बात करूँगा जिसे फॉलो करके आप अपने जीवन को खुशहाल बना सकते है.

happy life living in hindi, hindi tips for happy life

1. खुश रहने वाले हमेशा अच्छाई खोजते है-

हममें से अधिकांश लोग ऐसे होते है जो हर समय किसी न किसी बात का रोना रोते है. इसकी वजह है हमारा Negativity को जल्दी ग्रहण करना. हम बहुत जल्दी दूसरों में कमी निकालते है. लेकिन खुश रहने वाले लोग हर समय हर चीज में अच्छाई खोजने की कोशिश करते है. उनकी यही कोशिश उनको खुश रहने की वजह देते है. अगर आप खुद से एक प्रश्न पूछे की यह व्यक्ति या यह चीज क्यों अच्छा है?-तो आपका मस्तिष्क आपको ढेर सारी अच्छाई बता देगा. मान लो किसी वजह से उनका रिश्ता टूट जाता है तो वे दुःखी होने के बजाय सोचते है कि उसके भाग्य में उससे बेहतर रिश्ता होगा इसलिए ऐसा हुआ.

2 . भूल जाइये किसी ने आपका बुरा किया

हर किसी के लाइफ में जाने-अनजाने कितनी सारी बातें घटित होती है और कुछ बातें हमारे लिए बहुत दुखदायी होता है. खासकर जब किसी ने आपका बुरा किया हो या आपको नुकसान पहुंचाया हो. ऐसे पलो को बार-बार याद करके आप खुद अपने जिंदगी कि खुशियों को ग्रहण लगा रहे है. कभी 1 पल भी सोचा है कि कितना बोझ लेकर चल रहे है आप. आप हर पल तनाव महसूस करते है जब सोचते है उसने मेरे साथ बुरा किया, मेरा जिंदगी बर्बाद कर दिया. अगर आप अपने जीवन में खुश रहना चाहते है तो सभी बातो को भुला दीजिये और माफ कर दीजिये जिसने आपके साथ बुरा किया. जिस प्रकार आप खुद कि कई गलतियों को नजर अंदाज़ कर देते है एक बार सामने वाले कि गलती को भी करके देख लीजिये. यकीन मानिये मेरे दोस्त आपके जीवन में मुस्कुराहट लौट आएगी. 

और पढ़ें : किसी भी किताब को जल्दी कैसे पढ़ें 

3. दुसरो से उम्मीद नहीं रखना-

आज के समय में हमारे दुःख की सबसे बड़ी वजह यही है दुसरो से उम्मीद रखना. प्रायः हर कोई हर किसी से न जाने कितनी सारी उम्मीदे रखता है और कोई उम्मीद पूरी न हुई तो फिर दुःखी होना स्वाभाविक हो जाता है.
जैसे हम अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से उम्मीद करते है की जरुरत पड़ने पे हमको पैसे दे और वो किसी कारण वश न दे पाए तो हमें दुःख होता है.

4. मन से डर निकल दीजिये

जीवन से खुशियाँ छीनने वालो में डर (Fear) दूसरी चीज है. आप खुद महसूस किये होंगे जब भी आपको डर लगता है उस समय आपकी खुशियाँ गायब हो जाती है. जीवन में डर-डर के जीने से कोई मतलब नहीं होता है. एक अध्ययन के अनुसार करीब 60 % लोगो को अपने जीवन में किसी न किसी प्रकार का डर है और यही कारण है वो अपने जीवन में खुश नहीं रह पा रहे है. डर कि वजह से लोग हंसना भी भूल गए है. डर के कारण हर पल एक अनजाने तनाव में जीते है जिसके कारण जीवन में हर पल उदासी छायी रहती है और खुशियाँ हमसे कोसो दूर रहती है.

5. माफ़ करना और माफ़ी मांगना जानते है-

हर किसी के जीवन में ऐसे कई मोड़ या पल आते है जिनमे हमें माफ़ करना या माफ़ी मांगने की जरुरत होती है. एक साधारण आदमी ऐसे समय में फालतू के ईगो (Ego) को अपने पास रखता है जिससे न तो वह माफ़ी मांग पाता है और न ही माफ़ कर पाता है. नतीजन बेवजह दुःखी रहता है. लेकिन खुश रहने वाले लोग माफ़ करना और माफ़ी मांगना भली-भांति जानते है. माफ़ करने या माफ़ी मांगने से उनका दिमाग को शांत रहता है और बहुत सारी उलझनों से उनको बहुत दूर रखता है और वह बहुत खुश रहते है.

6. नेकी कर दरिया में डाल-

नेकी कर दरिया में डाल कहावत अपने तो सुना ही होगा. जिसका साधारण सा मतलब है- अच्छाई करके भूल जाओ. अगर आप भी अपने जीवन में परेशान लोगो कि मदद किये है. लोगो के अच्छा किये है तो उससे जल्द- जल्द भूल जाइये. क्यूंकि ये सभी बातें बार बार सोचने या याद करने से मन में अहंकार के भाव उत्पन्न होते है जिनका सीधा असर आपके व्यव्हार पर दिखाई देने लगता है. अहंकार का भाव आपके संबंधों को भी ख़राब कर सकता है. किसी भी प्रकार के रिश्ते चाहे- पिता-पुत्र, भाई -बहन, दोस्ती-यारी और पति-पत्नी कोई भी आपके अहंकार के कारण बिखर सकता है. हमारी जीवन कि असली खुशी संबंधों से ही होता है. आप अकेले रहकर जीवन में खुश नहीं रह सकते है.

7. दूसरों पर निर्भर ना रहना

ज्यादातर लोग छोटी सी छोटी बात के लिए दूसरों पर निर्भर रहते है. हर बात पे किसी पे निर्भर रहना आपको दुःखी होने के कई कारण देते रहते है. लेकिन जो लोग दूसरों पर निर्भर होने के बजाय Self -Depended होते है वो ज्यादा खुश होते है.
उदाहरण के लिए आपको ऑफिस आने जाने के लिए अपने दोस्त पर निर्भर रहना पड़ता है और किसी कारण वश आपका दोस्त ना आये तो आपके दुखी होने की गारंटी बढ़ जाती है.

8. अकेले रहने से बचे

जीवन में अकेलापन सबसे बड़ा दुःख का कारण है. अगर आप अपने जीवन में खुशियाँ चाहते है तो अकेले रहने से बचे. आप जितना ज्यादा लोगो के साथ मिलेंगे और उनसे बातें करेंगे उतना ही आपके जीवन से उदासी दूर रहेगी. अकेले रहने से आप बाहरी दुनिया से अलग होते जाते है और धीरे-धीरे आपके अंदर हीनता कि भावना आती जाती है. Human Being होने के कारण हमें हमेशा सामाजिक होना चाहिए और लोगो से मिलते-जुलते रहना चाहिए. लोगो से मिलते जुलते रहने से नए-नए बातें सीखने को मिलती है.यही सब बातें आपको चार्ज करती रहती है और जीवन में खुशियाँ के कई बहाने लेकर आती है.

9. पसंद का काम करना-

खुश रहने के लिए पसंद का काम करना बहुत जरुरी है. आपको जो चीज अच्छी लगती है अगर वो चीज आप करेंगे तो आपके खुश रहने का ग्राफ बढ़ता ही जायेगा. अगर आप इसके उलटे बिना पसंद के काम करेंगे तो आपको छोटी बातों पे भी गुस्सा आएगा और दुखी रहना आपका स्वभाव बनते जायेगा. जैसे अगर आपको खाना बनाना पसंद है और सेफ का काम करेंगे तो आपको लोगों को खिलाने में बहुत आनंद आएगा और आपकी खुशी बढ़ती जाएगी.

10. भावनाओ को व्यक्त करें

जीवन में खुश रहना चाहते है तो जीवन में कभी भी अपने भावनाओं को मत दबाओ. आप अपनी भावनाओं को जितना दबाएंगे आप उतना ही ज्यादा परेशान रहेंगे और आपकी परेशानी आपके जीवन से खुशियाँ छीन लेगी.
अपनी भावनाओं के दबाकर रखने के परिणामस्वरुप ही आज आत्महत्या करने का ग्राफ (Graph of Suicide) बढ़ते है चला जा रहा है. भावनाओं को दबाने से विचार आप पर ही हावी हो जाता है और उससे आप रात-दिन लड़ते रहते है. आपके रातो कि नींद ख़राब हो जाती है.
आपके अंदर जो भी विचार या भावना आये जिससे आपके जीवन में उदासी आ रही है या आप उसके कारण खुश नहीं रह पा रहे है तो उसे जरूर अपने किसी दोस्त या रिश्तेदार के साथ शेयर करें. जीवन में खुशियाँ पाने के लिए कड़ी मेहनत करने के बाद भी ऊपर कि कुछ बातों के कारण हमारे जीवन से खुशियाँ ख़त्म हो जाती है. कुछ बातों का ध्यान रखिये . जीवन में खुश रहिये ( Be Happy in Life ) और मस्त रहिये.

11. रिश्तो को महत्व देते है-

आजकल लोग रिश्तो को स्वार्थवश ही आगे लेकर चल रहे है इसीकारण रिश्तो में कडुवाहट आते जा रही है जिसके कारण लोग जीवन में दुःखी रहने लगे है. खुश रहने वाला इंसान अपने रिश्तो को स्वार्थ से ऊपर रखता है. उनकी कोशिश होती है कि हर रिश्तो को बेहतर बनाये. इसके लिए वह छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखता है- जैसे बर्थडे विश करना, त्यौहारों में बधाई देना, कुछ अच्छा करने पर सच्ची तारीफ करना, हर छोटी-बड़ी ख़ुशी या दुःख में शामिल होना जैसी बातों रिश्तो में मधुरता लाती है. जैसा आप लोगों को देते है वैसा ही बदले में आपको मिलता है ढेर सारी खुशिया.

12. पॉजिटिव थॉट को ही महत्व देना-

एक अध्ययन के अनुसार हमारे दिमाग में दिनभर में कम से कम 60000 से ज्यादा विचार आते है और उनमे से ज्यादातर विचार नेगेटिव होते है और अगर हम हर नेगेटिव थॉट को लेकर चलेंगे तो खुश रहना नामुमकिन हो जायेगा. इसलिए एक खुश रहने वाला व्यक्ति केवल Positive Thought को ही सोचता है और नेगेटिव थॉट को ज्यादा देर तक रहने नहीं देता है, दिमाग में आने वाली हर विचार सही हो जरुरी नहीं है ऐसे में उस पर React करते रहने से दुखी रहते है. नकारात्मक विचारो को सच मानने से Body में Blood Pressure बढ़ जाता है और हमारे लिए Tense जैसी स्थिति निर्मित हो जाती है. लेकिन जब हम उसे नकार देते है तो हमारा Brain Relax रहता है और हम Happy.


दोस्तों जानकारी कैसी लगी, अपने सवाल और सुझाव कमेंट बॉक्स के माध्यम से जरूर दें। जानकारी अच्छी लगी तो प्लीज अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलें। खासकर अपने किसी ऐसे फ्रेंड के साथ तो जरूर शेयर करे जो चिंता में रहता है या फिर उसको ये सब जानना जरुरी है। हमसे जुड़े रहने के लिए आप सभी का धन्यवाद। 

Wednesday, October 17, 2018

Group Discussion Tips In Hindi - ग्रुप डिस्कशन टिप्स इन हिंदी

वैसे तो हम अक्सर दोस्तों और फेमिली के ग्रुप में बातचीत करते रहते है लेकिन जब नौकरी के लिए या किसी कॉलेज में एडमिशन के लिए ग्रुप डिस्कशन की बात आती है तो हमारी टेंशन बढ़ने लगती है। आजकल नौकरी के लिए सभी बड़ी कंपनियां इंटरव्यू के साथ ग्रुप डिस्कशन का भी सहारा लेती है ताकि बेहतर से बेहतर एम्पलॉयी को सिलेक्ट किया जा सके। अगर आप भी ग्रुप डिस्कशन में हिस्सा ले चुके है या लेने वाले है तो आपको पता ही होगी कि अगर आपने मजबूती से अपनी बातों को नही रखा तो आप ग्रुप डिस्कशन में फैल भी हो सकते है। यहां पर हम आपको ग्रुप डिस्कशन (Group Discussion Tips) के लिए 10 असरदार टिप्स देने जा रहे है जिनकी मदद से आप किसी भी ग्रुप डिस्कशन में सफल हो सकते है।


gd tips

10 Group Discussion Tips in Hindi - 

1.फॉर्मल कपड़ें पहनकर जाए-

अगर आप ग्रुप डिस्कशन के लिए जा रहे तो फॉर्मल कपड़े ही पहने क्योंकि फॉर्मल कपड़ों में आप ज्यादा सिरियस और समझदार लगेंगे। इसके अलावा फॉर्मल कपड़ें आपको एक प्रोफेशनल लुक देने के साथ ही एक गंभीर और महत्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में पेश करते है।


2. ज्यादा डिटेल में भी न जाएं-

कई बार ऐसा होता है कि टॉपिक पर ज्यादा तैयारी करने के बाद हम उस पर बहुत कुछ बोलने लगते है जिन बातों की वहां पर जरूरत ही नही होती है। किसी भी टॉपिक पर उतना ही बोले जिसकी वहां पर जरूरत है। आउट ऑफ बॉक्स नही बोले इससे आपकी बातों को सिरियसली नही लिया जाएगा क्योंकि उस समय आप कुछ ऐसा बोल रहे होते है जिसकी जरूरत ही नही होती है।


3. दूसरों को ध्यान से सुने-

अगर आप चाहते है कि आपकी बातों को ध्यान से सुना जाए तो आपको भी दूसरों की बातों को ध्यान से सुनना होगा। इसके अलावा दूसरों को ध्यान से सुनने का एक और फायदा ये है कि जब आप कई बार लोगों की बातों को ध्यान से सुनते है तो आपकी बातों से संबंधित लिंक भी मिल जाते है जिससे आपको आगे बेहतर तरीके से अपनी बात रखने के लिए प्वाइंट्स मिल जाते है।


4. डिस्कशन को ट्रैक पर लाएं-

कई बार लोग मुद्दे की बात को भूलकर कुछ और ही बात करने लगते है इसलिए जब आपकी बारी आये तो लोगों को टॉपिक याद दिलाकर डिस्कशन को ट्रैक पर लाने की कोशिश करें। आपके ऐसा करने से आप मॉडरेटर की नजरों में आएंगे जो कि आपके लिए फायदमेंद रहेगा।


5. खुद से करें शुरूआत-

अगर आप ग्रुप डिस्कशन की शुरूआत खुद से करते है तो आपकी बात को ज्यादा तरहीज दी जाती है क्योंकि आप डिस्कशन का एक लेवल सैट कर सकते है। इसलिए डिस्कशन की शुरूआत करना फायदेमंद होता है। लेकिन कई बार खुद से शुरूआत करना नुकसानदायक भी होता है क्योंकि शुरूआत में लोग उम्मीद करते है कि आप अच्छा और ज्यादा बोलेंगे लेकिन अगर आप ऐसा नही करते है तो ये उल्टा भी पड़ सकता है। इसलिए अगर आपकी उस टॉपिक पर अच्छी रिसर्च है तो आप शुरूआत कर सकते है।


6. संयम बनाए रखें-

ग्रुप डिस्कशन की शुरूआत से लेकर अंत तक आपकी संयमता को भी परखा जाता है क्योंकि कई बार ऐसा होता है जब कैंडिडेट बहस करते हुए अपना आपा खो देते है। इसलिए पूरे ग्रुप डिस्कशन के दौरान संयमता बरते और शुरू से लेकर आखिरी तक अपनी बात ध्यान से लोगों के सामने रखें।


7.आई कॉन्टेक्ट-

अपनी बात का असर लोगों तक पहुंचाने के लिए आई कॉन्टेक्ट का होना बहुत जरूरी है। यही बात ग्रुप डिस्कशन पर भी लागू होती है। जब आप डिस्कशन में मौजूद सभी लोगों से आई कॉन्टेक्ट बनाएंगे तो न सिर्फ आपकी बातों को ध्यान से सुना जाएगा बल्कि आपकी बात का असर भी पड़ेगा। इसलिए ग्रुप डिस्कशन के वक्त आई कॉन्टेक्ट बनाकर अपनी बात कहना चाहिए।


8. बात को घूमा-फिराकर नही बोलें-

अपनी बात को साफ-साफ बोले, डिस्कशन को लंबा खींचने के लिए बातों को ज्यादा घूमा-फिराकर नही बोलें। सिर्फ वही बात बोले जिसकी उस वक्त जरूरत हो उसके अलावा फालतू की बात करके अपना इंप्रेशन खराब नही करें।


9. समझदारी पूर्वक बोले-

ग्रुप डिस्कशन में आपको बोलने के लिए जो टाइम दिया जाता है उसका समझदारी पूर्वक इस्तेमाल करें सिर्फ अपने हिस्से के समय को काटने के लिए न बोले। जब आपकी बारी आए उससे पहले ही अपने प्वाइंट्स के बारे में सोच लें या नोट में शॉर्ट कट में लिख लें ताकि बोलते वक्त आप किसी प्वाइंट को भूले नही।


10. सकारात्मक एटीट्यूड रखे-

आपकी बातों में सकारात्मकता होना जरूरी है कई बार लोग ग्रुप डिस्कशन में ज्यादा असर दिखाने के लिए सामने वाले पर चढ़ने लगते है जो कि सही नही है। उस समय तो आपको लगता है कि आपने उसे चुप करवा दिया लेकिन बाद में आपका दूसरों पर बूरा असर पड़ता है। इसलिए सकारात्मक एटीट्यूड के साथ अपनी बातों को रखे और आपकी बॉडी लैंग्वेज से ऐसा नजर आना चाहिए जैसे आप डिस्कशन में एक महत्वपूर्ण रोल अदा कर रहे है।


ये थे"Groups Discussion Tips" जो की आपके लिए बहुत मददगार होंगे। 
दोस्तों उम्मीद करता हूँ , आपको जानकारी पसंद आयी आयी होगी, किसी प्रकार के सवाल सुझाव के लिए कमेंट जरूर करें। जानकारी पसंद आयी तो शेयर करना न भूलें। धन्यवाद। 

Monday, October 15, 2018

Graphic Card for Laptop

What is Graphic Card? Graphic Card Working ? Graphic Card Price

नमस्कार दोस्तों कैसे है आप सब ? उम्मीद करता हूँ आप सब अच्छे होंगे। दोस्तों आप सभी ने "Graphic Card" के बारे में तो जरूर सुना होगा।  क्या आपको पता है की "Graphic Card" क्या होता है और यह किस काम आता है।  आज की पोस्ट में हम "Graphic Card" क्या होता है और ये किस काम आता है और ""Graphic Card"" सभी विषयो के बारे में जानेंगे। 


what is graphic card
ग्राफ़िक कार्ड 

दोस्तों अगर हम कोई भी नार्मल कंप्यूटर में 2 GB "Graphic Card" डलवा देते है तो, उसी कंप्यूटर की किम्मत 4 से 5 हज़ार बढ़ जाती है।  तो हमे जरुरत क्यों पड़ती है "Graphic Card" वाले कंप्यूटर की या फिर लैपटॉप की। आपने अक्सर  सुना  होगा की "Graphic Card"लगा लो तो गेम सही चलने लगती है। क्योकि सभी मानते है और सच भी है की कंप्यूटर में "Graphic Card" लगाने से गेम अच्छे से चलने लगते है। जब कोई वीडियो एडिटिंग की बात होती है तो तब भी कंप्यूटर या लैपटॉप के लिए "Graphic Card" जुरूरी हो जाता है। आज हम यही जानेगे की ये क्या होता है कैसे काम करता है और इसकी किम्मत क्या होती है -



ग्राफ़िक कार्ड क्या होता है ? - What is Graphic Card 

आपके फ़ोन या कंप्यूटर में ग्राफिक्स कार्ड की जरुरत आपके कंप्यूटर के स्क्रीन को दिखने के लिए होता है ! आपके कंप्यूटर पहले से कुछ ना कुछ ग्राफिक्स कार्ड होता है ! तभी आपके कंप्यूटर की स्क्रीन दिखाई देती है ! पहले ये मदरबोर्ड के साथ आता था ! लेकिन अब इसे अलग से बनाया जाता है ! जिसे हम GPU कहते है ! इसमे भी CPU के तरह ही इसमें इस प्रोसेसर और रैम होता है !




ग्राफ़िक कार्ड कैसे काम है - Working Of Graphic Card


इसका काम होता है ! स्क्रीन के पिक्स्सल को पूरी तरह से बड़ा देना ! ताकि आपके स्क्रीन पर जो भी चल रहा होता है ! वो बिलकुल फ्रीह होकर चलता है ! इसकी वजह से ही आपका विडियो और गेम्स नही रुकता है ! वो आपके पिक्स्सल के को बहुत सारे पार्ट में तोड़ देती है ! और उसकी स्पीड को बड़ा देती है ! इसका मैं काम यही होता है ! ताकि आपने अपने कंप्यूटर 3D पिक्चर को आसानी से देख पाए ! आप अपने लैपटॉप पे हर काम आसानी से कर सकते है ! आप GPU लगाने के बाद फोटो एडिटिंग , गेम्स खेलना हो या फिर आपको विडियो को एडिट करना हो आसानी से कर सकते हो !




 ग्राफ़िक कार्ड की किम्मत - Price Of Graphic Card

वैसे तो मार्किट में "Graphic Card" अलग अलग किम्मत में आपको मिल जाएंगे। मार्किट में "Graphic Card" की किम्मत 2000 रुपये से शुरू हो जाती है और 15,000 रुपये तक के "Graphic Card" आपको मिल जाएंगे।  कीमत में अंतर है तो आप समझ सकते है, की उनके काम करने की क्ष्मता में भी जरूर अंतर होगा।  जी हाँ दोस्तों आप जैसा और जिस किम्मत का "Graphic Card" चुनेगें आपको उसी अनुसार उसकी क्ष्मता मिलेगी। अगर आप नार्मल कोई "Graphic Card" खरीदना चाहते है तो आप नीचे दिए गए "Graphic Card" में से भी खरीद सकते है। 

अगर आप भी कोई "Graphic Card" खरीदने की सोच रहें है तो नीचे दिए गए लिंक से आसानी से कोई भी "Graphic Card" for Laptop खरीद सकते है।  नीचे दिए गए सभी "Graphic Card" को reviews के आधार पर झाँच परख के चुना गया है जो आपके लिए बेहतर रहेंगे। 

दोस्तों आज हमनें जाना "Graphic Card" क्या होता है ?, ये कैसे काम करता है ? और इसकी किम्मत क्या होती है।  दोस्तों पोस्ट अच्छी लगे तो प्लीज शेयर करना न भूलें और अपने सवाल और सुझाव हमे कमेंट बॉक्स में करें आपके सुझाव हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योकि आपके सुझाव और सवाल ही हमे बहेतर पोस्ट लिखने में मदद करते है।  आप सभी पाठकों का  धन्यवाद। 

Thursday, October 11, 2018

IRDA, IRDA EXAM, IRDA FULL FORM, IRDA EXAM STUDY MATERIAL

Kya aap IRDA ke baare me jaante hai, agr nhi jaante to is post me aapko IRDA ke baare me puri jaankari milne wali hai. Jaise ki IRDA kya hota hai, Full form of IRDA, IRDA EXAM, IRDA Chairman etc. Aaj ki post me aap ye sab jaanenge saath saath jaanenge IRDA kaise kaam karti hai aur IRDA se judi koi bhi samsya ka aap kaise hal kar sakte hai. To chaliye dosto jaan lete IRDA se judi jaankari vistar se.

irda, irda-exam, irda-chairman-name, irda-full-form-in-hindi
IRDA

Full Form of IRDA


IRDA : Insurance Regulatory and Development Authority of India / बीमा विनियामक और विकास प्रधिकरण 

IRDA Chairman : Subash Chandra Khuntian


असल में IRDA एक संस्था है जो की भारत सरकार द्वारा मान्यता प्रपात है। यह एक एजेंसी है जो की भारत सरकार द्वारा चलाई जाती है, यह एजेंसी भारत में बीमा कपनीज़ को नियंत्रित करने का काम करती है। इस एजेंसी का निर्माण Insurance Regulatory and Development Authority Act,  1999 के तहत हुआ था। IRDA के headquarter को 2001 में दिल्ली से हटाकर हैदरबाद, तेलंगना में शिफ्ट कर दिया गया था, जो की आज तेलंगना राज्य है। भारत में यह एजेंसी बीमा नीतियों को बनाने तथा बिमा कंपनियों की नीतियों की निगरानी करती है।


IRDA निम्नलिखित कार्यो को भी अपने अंतर्गत नियंत्रित करती है 

IRDA एजेंसी पुरे भारत में बीमा एजेंट के लिए परीक्षा को Conduct करती है। जिन किसी को भी बीमा एजेंट बनना हो तो वे Offical Website : www.irdai.gov.in में जाकर Exam के लिए form को fill-up कर सकते है। 



Specify Qualification

IRDA एजेंट के लिए अपेक्षित योग्यता को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, साथ ही यह एक एजेंट को किनते समय को पर्शिक्षण की जरुरत होती है इस बात का निर्णय लेती है।  इस एजेंसी में जो भी एजेंट बनना चाहते है उन्हें कम से कम 12 वी पास होना जरुरी होता है। 





Protect the Interest of the policy holders.

इस एजेंसी का मुख्य कार्य पालिसी धारको के हितो की रक्षा करना होता है।  इसके अलावा, यह बीमा दावे की तरह Insurance claim, surrender value, nomination of policy holders etc. जैसी कई मामले के निपटान के लिए जिम्मेदार होता है। 




Controlling and Developing insurance company

इस एजेंसी का मुख्य मकसद सभी बीमा कम्पनियो की मदद करना होता है, बीमा के क्षेत्र अधिक से अधिक प्रॉफिट पाने के लिए तथा बीमा कंपनियों के हित में यह कुछ उपयोगी योजना का भी निर्माण करती है। 




Controlling and regulate the rates

भारत में, दरों, नियमो और बीमा कंपनी की हालत को यही एजेंसी नियंत्रित करती है। यह वर्तमान दर, शर्तो और बीमा उत्पाद की शर्तो को फैसला करती है। 




IRDA की शिकायत कैसे करे करें 

अगर आप अपनी Insurance कंपनी के बर्ताव से या फिर सर्विस से खुश नहीं है, या अगर आपकी insurance company claim देने में किसी भी प्रकार की आना-कानि करती है तो आप इसकी शिकायत सीधे हेड ऑफिस में कर सकते है 

Toll Free No. 1800 4254 732  



Agents Study Material  के लिए निचे दिए गए लिंक पर विजिट करे :




दोस्तों अगर जानकारी अच्छी लगे तो, प्लीज शेयर जरूर करें और अपने सुझाव और सवाल कमेंट बॉक्स में जरूर दें। आप सभी पाठकों का धन्यवाद।